कमल का पर्यायवाची शब्द । kamal ka paryayvachi shabd [2023]

कमल का पर्यायवाची शब्द । kamal ka paryayvachi shabd । paryayvachi shabd – पंकज, नीरज, सरोज, जलज, अंबुज, अब्ज, अरविंद, इंदीवर, उत्पल,

अगर आप कमल का समानार्थी शब्द जानना चाहते हैं, तो निम्नलिखित लेख आपके लिए उपयोगी साबित हो सकता है। कमल भारतीय राष्ट्रीय पुष्प के रूप में पहचाना जाता है। इसके विभिन्न नामों से हम इसे संदर्भित कर सकते हैं, जो यह लेख आपको पूरे रूप से समझाता है।

कमल का पर्यायवाची शब्द: यह शब्द कमल के समान अर्थ वाले शब्दों को पुकारता है।

कमल कीचर व पानी में उगने वाला पौधा: इस पौधे में सुंदर फूल खिलते हैं, जिन्हें कमल फूल कहा जाता है।

अंग्रेजी में लोटस: यहाँ तक कि अंग्रेजी भाषा में कमल को “लोटस” कहा जाता है।

फारसी में नीलोफ़र: इसे फारसी भाषा में “नीलोफ़र” भी कहा जाता है।

भारतीय राष्ट्रीय फूल: कमल फूल भारत का राष्ट्रीय फूल होने के गर्व में है।

पर्यायवाची शब्द का अर्थ होता है – समान अर्थ वाले शब्द। इस लेख से आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि कमल के कितने रूप और नाम होते हैं और इसका महत्व क्या है।

पर्यावाची शब्द क्या होते हैं-paryayvachi shabd

समानार्थक शब्दों का अर्थ है कि ये वे शब्द होते हैं जिनका मतलब आपसी रूप से समान या बहुत करीब रहता है, और यह एक सदियों से हमारे भाषा के उपयोग में आ रहा है। यह एक तरह की वाणीकी सुविधा होती है जो हमें शब्दों की समृद्धि देती है।

See also  बादल का पर्यायवाची शब्द ? badal ka Paryayvachi Shabd[2023]

kamal ka paryayvachi shabd : इसे समझने के लिए, आप एक उदाहरण से सोच सकते हैं: ‘प्रधानमंत्री’ और ‘प्रधानसचिव’ दोनों शब्द तो अधिकारियों का नाम होता है, लेकिन उनके कार्यक्षेत्र और महत्व में थोड़ा अंतर होता है। इसी प्रकार, हम जब किसी समानार्थक शब्द का उपयोग करते हैं, तो हम अपने विचारों को और भी स्पष्ट और अच्छे तरीके से सामग्री से भरते हैं।

एक और उदाहरण देखते हैं: ‘खुशी’ और ‘आनंद’ दोनों शब्दों का अर्थ होता है ‘सुख’ या ‘हर्ष’, लेकिन ये शब्द थोड़े-बहुत भावनाओं और संदर्भों में थोड़ा भिन्न दिखते हैं। इस तरीके से,समानार्थक शब्द हमें भाषा के साधनों का सही और पूरी तरह से उपयोग करने में मदद करते हैं।

Kamal ka Paryayvachi Shabd की लिस्ट नीचे दी गई है

ये रहे kamal ka paryayvachi shabd

जलज
पंकज
अम्बुज
सरोज
शतदल
नीरज
इन्दीवर
सरसिज
अरविन्द
नलिन
उत्पल
सारंग
शतपत्र
राजीव
पद्म
अब्ज
पुण्डरीक
सरसीरुह
वारिज
कुशेशय
तामरस
अरविंद
शतदल
कुमुदनी
कुवलय
पंकरुह
कंज
राजीव
इन्दीवर
मकरन्द
कोकनद
इंदीवर
सरोरुह
परिजात
पाथोज
अंबुज
अम्भोज
वनज
पुष्कर
महोत्पल
लेखनी
खड़का

और पढ़े-prashansa ka vilom shabd । प्रशंसा का विलोम शब्द [2023]

नदी का पर्यायवाची शब्द | Nadi Ka paryayvachi shabd | paryayvachi shabd

aadhar card loan yojana online [2023] । आधार कार्ड लोन योजना ऑनलाइन: ऑनलाइन अप्लाई करें, पात्रता मानदंड और लाभ

कमल का पर्यायवाची शब्द के वक्य प्रयोग

ये रहे kamal ka paryayvachi shabd के वाक्य प्रयोग

जलज के कुल मुकुट पर मनोहर मणि शोभित थे।

पंकज के बीच में कुछ मधुर गंध फैल रहा था।

See also  घर का पर्यायवाची शब्द । Ghar ka paryayvachi shabd । paryayvachi shabd

अम्बुज के पास बड़े-बड़े पत्ते थे जो उसकी सुंदरता को और बढ़ा देते थे।

सरोज की कोमलता में उसकी अद्वितीय सौंदर्यता छुपी थी।

शतदल के बीच में एक छोटा सा सम्राट पशु अपनी शांति की तलाश में था।

नीरज के समीप खिल रहे फूल ने महक को और भी भव्य बना दिया।

इन्दीवर के उस रूप में कुछ आकर्षक था जो देखने वालों को बहुत प्रभावित करता था।

सरसिज के किनारे पर खिल रहे तम्बूल के पत्ते उसकी सुंदरता को और भी निखारते थे।

अरविन्द के उस आकार में कुछ ऐतिहासिक भावनाएँ छिपी थीं जो उसके व्यक्तिगतता को दर्शाती थीं।

नलिन की आंखों में उसके संविदान की गहराई दिखती थी।

उत्पल के बीच बिना किसी संकेत के छिपा हुआ सुंदर नील कमल खिल रहा था।

सारंग के मध्य में एक छोटी सी जीवन की ओर खिल रही थी।

शतपत्र के बीच एक मार्ग पर कुछ वीर योद्धाएँ आगे बढ़ रही थीं।

राजीव के पास एक छोटा सा किनारा था जिस पर विश्राम करने के लिए बहुत सारी मदहों की जगह थी।
पद्म के अंदर बड़े-बड़े पंखे थे जो उसके सौंदर्य को और भी उच्चता देते थे।

अब्ज के पास खेतों की ओर एक बड़ा सा नाव खड़ा था जो सिक्किम और आसपास के स्थलों से आया था।

पुण्डरीक के केन्द्र में एक छोटी सी मनोहर किमातियाँ थीं जो सबको मोहित करती थी।

सरसीरुह के पत्तों में छिपी हुई खुशबू उसके आसपास के माहौल को सुखद बना देती थी।

वारिज के नीचे बहती हुई नदी के किनारे बैठकर शांति की तलाश में कुछ लोग थे।

See also  नदी का पर्यायवाची शब्द ? Nadi Ka paryayvachi shabd [2023]

कुशेशय की कल्पना करते समय हमें एक प्राचीन ऋषि की तस्वीर मन में आती है जो तपस्या कर रहे होते हैं।

तामरस के बीच बड़े-बड़े पुष्प खिल रहे थे जो आसमान के नीले रंग के साथ खूबसूरत लग रहे थे।

अरविंद के बीच बैठकर सब ने आत्मा के शांति की प्राप्ति के लिए ध्यान में जाया।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *